JAUNDICE (पीलिया) TREATMENT, CAUSES, SIGNS & SYMPTOMS in Hindi

JAUNDICE (पीलिया) CAUSES & TREATMENT

Blood stream में bilirubin level अधिक बढ़ जाने से Skin तथा eye का yellowish discoloration हो जाना jaundice कहलाता है

CAUSES OF JAUNDICE (पीलिया)

  • Post hepatic condition
  • Blood में bilirubin की अधिकता Yellow, Orange bile pigment की अधिकता

इसके अलावा कुछ कारण निम्न है –

  • Hepatitis (यकृत शोथ)
  • Gallstones (पिताशय में पथरी)
  • Tumors (ट्यूमर)
  • Liver Acute inflammation
  • Bile duct T inflammation
  • Bile duct में किसी प्रकार का obstruction
  • Hemolytic anemia जिससे की bilirubin की मात्रा बढ़ती है।

SIGNS & SYMPTOMS

  • Skin, sclera of eye, Tongue de urine yellowish discoloration
  • Abdomen में dull pain (Specially Liver पर )
  • भूख की कमी।
  • Nausea (जी घबराना) ।
  • Severe constipation (कब्ज)
  • Extreme weakness (कमजोरी)
  • Fever ( बुखार)
  • Headache e Fatigue

JAUNDICE (पीलिया) CAUSES & TREATMENT

INSTRUCTIONS

पीलिया (Jaundice) के Patient को 15 दिन से लेकर 60 दिनों तक Bed Rest देना चाहीये। एसे Patient को दवाओं के साथ साथ Bed Rest देने से जल्दी स्वास्थ्य लाभ मिलता है।

Diet Therapy (आहार थरेपी)

  • Jaundice patient को Light diet (हल्का भोजन) देना चाहिये। भोजन Fat free होना चाहिये तथा उसमे protein व CHO (कार्बोहाइड्रेट) की मात्रा अधिक होनी चाहिये।
  • Jaundice के Patient को ग्लुकोज अधिक मात्रा मे देना चाहीये अगर patient glucose को orally tolerate नही कर पा रहा हो तो उसे Ryle’s tube अथवा शिरा मार्ग से अतिरीक्त glucose दिया जाना चाहीये ।
  • patient को प्रतिदिन 2200 से 2800 किलो केलोरी energy की diet देनी चाहीये।
  • ऐसे patient को hepatotoxic drugs देना बन्द कर देना चाहीये।
  • एसे patient को Alcohol बिल्कुल नही लेना चाहिये।
  • ऐसे patient को sedative drugs भी नहीं दी जानी चाहिये।

TREATMENT OF JAUNDICE (पीलिया)

TREATMENT OF JAUNDICE (पीलिया)

Syp livomyn 3 चम्मच सुबह शाम

अथवा

Syp Liv-52 2 चम्मच सुबह शाम

अथवा

Syp Hepamerge (L- ornithine and L-Aspartate) 2 चम्मच सुबह शाम GI tract को Bacteria free करने हेतु

Cap Neomycin सुबह दोपहर शाम दिया जाना चाहीये।

अथवा

Tab flagyl 400 (metronidazole 400mg) सुबह, दोपहर, शाम

Inj. flagyl 100cc शिरा मार्ग द्वारा सुबह, दोपहर शाम

विटामिन की पूर्ती हेतु

Inj. NVM 2ml (B1, B6 B12) मांसपेशी मे एक दिन छोड़कर लगाया जाना चाहिये।

तथा

Cap Becosules (B- complex with Vitamin C) रोज 1 केप्सुल

Itching (खुजली हेतु) lacto calamine lotion locally लगाया जाना चाहीये

अथवा

Tab Ruzin 25 (Hydroxyzine Hydrochoride) सुबह, दोपहर, शाम

Iv fluid Dertrose 5% तथा Dertrose 25% अत्यधिक मात्रा में देते रहना चाहियें।

Antacid हेतु

Cap Acera- D (Rabeprazole and Domperidone) सुबह शाम

अथवा

Tab Rantac – D (Ranitidin and Domperidone) सुबह शाम

अथवा

Syp Solacid 2 चम्मच सुबह, दोपहर, शाम ।

Disclaimer- I am a pharmacist. So i have the right to give information about Medicines to everyone We provide information about medicines here before taking any medicine. Please take the advice of your Docter. this Post are made for the purpose of your Knowledge.

मैं एक फार्मासिस्ट हूं। इसलिए मुझे सभी को दवाओं के बारे में जानकारी देने का अधिकार है, हम कोई भी दवा लेने से पहले यहां दवाओं के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं। कृपया अपने डॉक्टर की सलाह लें। यह पोस्ट आपके ज्ञान के उद्देश्य से बनाई गई है।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment