INTESTINAL WORMS (कृमि रोग) TREATMENT, CAUSES, SIGNS & SYMPTOMS in Hindi

INTESTINAL WORMS (कृमि रोग) TREATMENT

Human body में अनेक प्रकार के Worms पाये जाते है। कुछ worms इतने छोटे होते है कि उन्हें हम अपनी आँखों से नहीं देख सकते लेकिन कुछ ऐसे होते है जिन्हें बड़ी आसानी से देख सकते है। कुछ worms body में disease उत्पन्न करते है। disease उत्पन्न करने वाले worms खून चूसते रहते है। human body में intestines में worms की उपस्थिति को Intestinal Worms कहा जाता है। intestinal worms सभी में पाये जाते है लेकिन यह children’s में अधिक पाये जाते है।

INTESTINAL WORMS (कृमि रोग)

TYPES OF INTESTINAL WORMS (कृमि रोग)

  • Intestinal worms अनेक प्रकार की होती Thread worm (सूत की तरह कृमि) है जो इस प्रकार है।
  • Long round worm (लम्बा गोल कृमि)
  • Tape worm (फीता कृमि)
  • Hook worm (अंकुश कृमि)
  • Whip worm (प्रदोत कृमि)

TYPES OF INTESTINAL WORMS

CAUSES OF INTESTINAL WORMS

  • Undercooked food (अधपके भोजन) का प्रयोग।
  • Contaminated water तथा food का use करना।
  • Contaminated soil (मिट्टी) का consumption
  • Hygiene की कमी
  • Poor sanitation (साफ सफाई का अभाव)
  • Contaminated faces (मल) के contact में रहना
  • Constipation (chevil)

SIGNS & SYMPTOMS OF INTESTINAL WORMS

SIGNS & SYMPTOMS

  • Abdominal pain (पेट दर्द) तथा Tenderness
  • Diarrhea (दस्त)
  • Nausea and vomiting (उल्टी और जी घबराना)
  • Unexplained weight loss (अकारण वजन घटना)
  • Fatigue (थकान)
  • Bloating अथवा गैस
  • Dysentery (पतले दस्त)
  • Rectum अथवा Vulva में Rashes तथा itching होती है।
  • कुछ लोगों के stool मे worms present रहते है।

INSTRUCTIONS

Intestinal worms हो जाने पर Patient को खीरा, ककड़ी, कच्चे फल-फूल, आलू, माँस, मछली, चीनी, मिठाई, गुड़, खटाई आदि का use नहीं करना चाहिए।

Patient को Nutrition युक्त Diet देना चाहिए। blood की कमी होने पर • टॉनिक तथा हरे पत्तेदार सब्जियों का ज्यादा use करना चाहिए। खुले में शौच नहीं करनी चाहिए तथा शौच के लिए नंगे पैर नहीं जाना चाहिए।

TREATMENT OF INTESTINAL WORMS

INTESTINAL WORMS (कृमि रोग) TREATMENT

Roundworm (गोल कृमी हेतु)

Tab Mebex 100 mg (mebendazole 100 mg) सुबह शाम खाने के बाद तीन दिन तक दी जानी चाहीये।

अथवा

Tab Bandy (Albendazole 400 mg) सप्ताह में एक बार चार सप्ताह तक दी जानी चाहीये।

अथवा

Tab Nemocid (pyrantel pamoate 250 mg) तीन गोली एक साथ दी जानी चाहीयें।

अथवा

Tab Tab Dicaris adults (Levamisole 150 mg) एक ही खुराक दी जानी चाहिये।

Thread worm (सुत्र कृमि हेतु)

Tab mebex 100mg (mebendazole) सुबह शाम पन्द्रह दिनों तक दी जाये।

अथवा

Tab Bandy (Albendazole 400 mg) सुबह शाम तीन दिनो तक दी जानी चाहियें।

Tape worm ( फीता कृमि हेतु)

Tab Bandy (Albendazole 400 mg) सुबह शाम तीन दिनों तक

या

Tab Niclosan (Niclosamide 500 mg) 4 गोली एक साथ प्रथम खुराक खाली पेट तथा उसके बाद 2 गोली रोज सुबह शाम छः दिनो तक दी जानी

चाहीये।

Hookworms ( अंकुश कृमि हेतु)

Tab Nemocid 250mg (pyrantel 250mg) तीन गोली एक साथ

Disclaimer- I am a pharmacist. So i have the right to give information about Medicines to everyone We provide information about medicines here before taking any medicine. Please take the advice of your Docter. this Post are made for the purpose of your Knowledge.

मैं एक फार्मासिस्ट हूं। इसलिए मुझे सभी को दवाओं के बारे में जानकारी देने का अधिकार है, हम कोई भी दवा लेने से पहले यहां दवाओं के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं। कृपया अपने डॉक्टर की सलाह लें। यह पोस्ट आपके ज्ञान के उद्देश्य से बनाई गई है।

Sharing Is Caring:

Leave a Comment